Connect with us

इलाहाबाद

वीडियो: जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारुख अब्दुल्ला के बिगड़े बोल तो बीजेपी कार्यकर्ताओं का ऐसे फूटा गुस्सा

Published

on

खबर शेयर करें

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश

चीन की मदद से जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 लागू करने के बयान पर से वहां के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला पर नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रयागराज स्थित जीजीआईसी सिविल लाइंस परिसर में उनका पुतला दहन किया। कार्यक्रम का नेतृत्व करते हुए भाजपा पार्षद पवन श्रीवास्तव ने कहा कि भारत के आंतरिक मामलों में विदेशी ताकतों की मदद लेने सम्बन्धी बयान देकर फारुख अब्दुल्ला ने अपना राष्ट्रविरोधी चेहरा बेनकाब कर दिया है।

उन्होंने फारूक अब्दुल्ला की अविलम्ब गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि ऐसे देश विरोधी लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। इन देश के गद्दारों को भली भांति यह समझ लेना चाहिए कि अब अनुच्छेद 370 जैसा विघटनकारी कानून अब इस देश में कहीं लागू नहीं होने दिया जाएगा। साथ ही फारुख अब्दुल्ला को देशद्रोही बताते हुए जबरदस्त हमला बोला।

इस दौरान कार्यकर्ता भाजपा का ध्वज लेकर सिविल लाइन क्षेत्र में भारत माता की जय, भारतीय जनता पार्टी जिंदाबाद और फारुख अब्दुल्ला विरोधी नारे लगाए। इस अवसर पर पार्षद अमरजीत सिंह, पूर्व पार्षद नीरज गुप्ता, पार्षद अमरजीत सिंह, पूर्व पार्षद नीरज गुप्ता, योगी सत्यम जी महाराज, गौरीश आहूजा, अजीत श्रीवास्तव, विहिप नेता विनोद सोनकर, निखिल केसरवानी, उमेश शर्मा, मोहम्मद नादिर, मनोज कुमार सहित अन्य मौजूद रहे।

जम्मू कश्मीर पर फारुख अब्दुल्ला का विवादित बयान

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की वजह से ही चीन ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर आक्रामक रुख अपनाया है। चीन की मदद से जम्मू कश्मीर में 370 बहाल होगा।”

उन्होंने कहा कि चीन ने अनुच्छेद 370 खत्म करने को कभी स्वीकार नहीं किया है। उन्होंने अब इस बात की उम्मीद जताई है कि ड्रैगन की मदद से सूबे में अनुच्छेद 370 फिर बहाल होगा। फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि मैंने कभी चीन के राष्ट्रपति को आमंत्रित नहीं किया। वह तो हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थे जिन्होंने न सिर्फ शी जिनपिंग को अपने यहां बुलाया बल्कि झूला भी झूलाया।

वह उन्हें चेन्नई भी लेकर गए और उनके साथ भोजन किया। उन्होंने कहा भारत सरकार ने 5 अगस्त 2019 में जो किया वह अस्वीकार है। धारा 35ए के साथ अनुच्छेद 370 भारत के संविधान के तहत जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्राप्त था।

जब तक आप आर्टिकल 370 बहाल नहीं करेंगे, हम रुकने वाले नहीं हैं क्योंकि तुम्हारे पास अब यह खुला मामला हो गया है। अल्लाह करे उनके इस जोर से हमारे लोगों को मदद मिले और अनुच्छेद 370 और 35ए बहाल हो।”

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending