Connect with us

इलाहाबाद

आम की फसल को कीटों से ऐसे बचाएं, ये है तरीका

Published

on

खबर शेयर करें

प्रदेश में आम के गुणवत्तायुक्त उत्पादन के लिये सम-सामयिक महत्व के कीट एवं रोगों का उचित समय प्रबन्धन बेहद आवश्यक है, क्योंकि बौर निकलने से लेकर फल लगने तक की अवस्था बेहद संवेदनशील होती हैं। वर्तमान में आम की फसल को मुख्य रूप से भुनगा एवं मिज कीट तथा खर्रा रोग से क्षति पहुँचने की सम्भावना रहती है।

मुख्य उद्यान विशेषज्ञ, औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र, खुशरूबाग कृष्ण मोहन चौधरी ने बताया कि आम के बागों में भुनगा कीट कोमल पत्तियों एवं छोटे फलों के रस चूसकर हानि पहुचाते हैं। प्रभावित भाग सूखकर गिर जाता है। साथ ही यह कीट मधु की तरह का पदार्थ भी विसर्जित करता है। इससे पत्तियों पर काले रंग की फफूंद जम जाती है, फलस्वरूप पत्तियों द्वारा हो रही प्रकाश संश्लेषण की क्रिया मंद पड़ जाती है।

इसी प्रकार से आम के बौर में लगने वाला मिज कीट मंजरियों एवं तरन्त बने फलों तथा बाद में मलायम कोपलों में अण्डे देती है, जिसकी सूंडी अन्दर ही अन्दर खाकर क्षति पहुँचाती हैं, प्रभावित भाग काला पड़ कर सूख जाता है।

भुनगा एवं मिज कीट के नियंत्रण हेतु इमिडाक्लोप्रिड (0.3 मि०ली0 प्रति लीटर पानी) या क्लोरपाइरीफास (2.0 मि०ली0/ली0 पानी) अथवा डायमेथोएट (2.0 मि0ली0/ली० पानी) की दर से घोल बनाकर छिड़काव करने की सलाह दी जाती है।

इसी प्रकार खरी रोग के प्रकोप से ग्रसित फल एवं डंठलों पर सफेद चर्ण के समान फफूंद की वृद्धि दिखाई देती है। प्रभावित भाग पीले पड़ जाते हैं तथा मंजरियाँ सूखने लगती हैं। इस रोग से बचाव हेतु ट्राइडोमार्फ 1.0 मिली0 ली0 या डायनोकेप 1.0 मिली०ली/ली० पानी की दर से भुनगा कीट के नियंत्रण हेतु प्रयोग किये जा रहे घोल के साथ मिलाकर छिड़काव किया जा सकता है।

बागवानों को यह भी सलाह दी जाती है कि बागों में जब बौर पूर्ण रूप से खिला हो तो उस अवस्था में कम से कम रासायनिक दवाओं का छिड़काव किया जाये जिससे पर-परागण क्रिया प्रभावित न हो सके।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending