Connect with us

इलाहाबाद

दुर्गापूजा और दशहरा प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती, जारी हुआ सख्त निर्देश

Published

on

खबर शेयर करें

कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते प्रकोप के बीच प्रशासन के सामने दुर्गापूजा और दशहरे का आयोजन बड़ी चुनौती है। जिला प्रशासन ने इस दौरान होने वाली भीड़ से निपटने के लिए रूपरेखा तैयार करना शुरू कर दिया है। इसी को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी भानु चन्द्र गोस्वामी की अध्यक्षता में बुधवार यानी आज संगम सभागार में देर शाम दुर्गापूजा एवं दशहरा के आयोजन के सम्बंध में बैठक आयोजित की।

बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराते हुए ही दुर्गापूजा के आयोजन की अनुमति दी जायेगी। कहा कि इसका विशेष ध्यान रखा जाय कि इस अवसर पर अधिक संख्या में भीड़ एकत्र न होने पाये।

जिलाधिकारी ने कहा कि पण्डालों में प्रवेश और बाहर निकलने का अलग-अलग मार्ग सुनिश्चित होना चाहिए। आयोजको को आश्वस्त करना होगा कि वे अपने यहां लगने वाले पण्डालों में कोविड-19 के मानको का कड़ाई से पालन करेंगे एवं किसी भी स्थिति में भीड़ एकत्र नहीं होने देंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि पण्डालों के बाहर न तो किसी प्रकार के ठेले की दुकान लगेगी और न ही किसी प्रकार के खाद्यय सामग्री की बिक्री होगी। दशहरा के दौरान होने वाली रामलीला का मंचन एवं राम चरित्र मानस पाठ के बारे में भी अधिकारियों को निर्देश दिये कि विभिन्न रामलीला कमेटियों के पदाधिकारियों के साथ वार्ता करके सुनिश्चित कर ले कि कोविड-19 के मानको का शत-प्रतिशत अनुपालन किया जायेगा।

सोशल डिस्टेंसिंग, सैनेटाइजिंग एवं मास्क का पूर्णता अनुपालन सुनिश्चित रहेगा। जिलाधिकारी ने ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाले दुर्गा पूजा एवं रामलीला मंचन के बारे में भी विशेष सर्तकता एवं सावधानी बरतने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में भीड़ को नियंत्रित करना बड़ी चुनौती है, इसके लिए पहले से ही सभी आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित कर ली जाये। उन्होंने रावण दहन पर विशेष सर्तकता बरतने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

उन्होंने कहा कि रावण दहन में ग्रामीण क्षेत्रों में काफी संख्या में भीड़ होती है, इसलिए उस दिन विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्होंने मूर्तियों के विसर्जन की तैयारियों के बारे में भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि विसर्जन की जगह पहले से सुनिश्चित कर ली जाये और वहां पर पानी की उपलब्धता, लाइट, साफ-सफाई की पहले से ही मुकम्मल व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाये, जिससे कि किसी भी प्रकार की अव्यवस्था न होने पाये।

उन्होंने कहा कि प्रयास किया जाये कि रात्रि में विसर्जन न होे, शाम तक मूर्तियों का विसर्जन करा लिया जाये, इसके लिए पुलिस विभाग को विशेष रूप से व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये है। उन्होंने विसर्जन स्थल की सूची बनाकर तत्काल उपलब्ध कराने का निर्देश सम्बंधित अधिकारियों को दिये है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सर्वश्रेष्ठ कुमार त्रिपाठी ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को कानून व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाये रखने के विशेष निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि कुछ जगहों पर पूर्व में अप्रिय घटनाओं के होने की जानकारी मिली है, ऐसी स्थिति में उन जगहों पर विशेष सर्तकता बरतने की आवश्यकता है।

उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों से कहा कि विसर्जन स्थल तक पुलिस एवं गांव का सम्भ्रांत व्यक्ति जरूर होना चाहिए, जिससे कि किसी प्रकार की अव्यवस्था न होने पाये। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि विसर्जन स्थलों तालाबों, पोखरों इत्यादि में अधिक गहराई वाले जगहों पर रेड सिग्नल जरूर होना चाहिए, जिससे कि विसर्जन के समय लोगो को गहराई की जानकारी हो सके और किसी अप्रिय घटना को रोका जा सके। बैठक में एडीएम वित्त एवं राजस्व, एडीएम प्रशासन, एडीएम सिटी एके कनौजिया सहित अन्य संबंधित अधिकारी गण मौजूद रहे।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending