Connect with us

इलाहाबाद

Prayagraj: माघ मेले में आने से पहले कल्पवासियों का ऐसे हो रहा कोरोना टेस्ट, तरीका जान कर रह जाएंगे दंग

Published

on

खबर शेयर करें

कोरोना महामारी के बीच प्रयागराज के संगम तट पर माघ मेले का भव्य आयोजन होने जा रहा है। कोरोना मुक्त माघ मेले का आयोजन प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती मानी जा रही है। ऐसे में जिला प्रशासन माघ मेले में आने वाली विभिन्न संस्थाओं से उनके यहां के कल्पवासियों का डाटा तैयार कर रही है।  

कल्पवासियों का यह डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है। कल्पवासियों का डाटा पोर्टल पर अपलोड कर उसे प्रदेश के विभिन्न जनपदों में आरटी पीसीआर टेस्ट कराने हेतु उपलब्ध कराया जाएगा। माघ मेला 2021 में कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम हेतु प्रशासन द्वारा सभी संस्थाओं से उनके यहां आने वाले कल्पवासियों की सूची लेकर उसे पोर्टल पर अपलोड करने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है।

जिला प्रशासन ने इस संबंध में मंगलवार को सभी सेक्टर मजिस्ट्रेटों को उनके सेक्टर में बसने वाली संस्थाओं से उनके यहां आने वाले सभी कल्पवासियों का डाटा इकट्ठा करने के कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिया है। जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने मंगलवार को आईसीसीसी सभागार में माघ मेला की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कल्पवासियों के डाटा इकट्ठा करने के धीमी प्रकिया को लेकर असंतोष जताया।

जिलाधिकारी ने सभागार में मौजूद अधिकारियों को सभी कल्पवासियों की जानकारी अति शीघ्र मुहैया कराकर पोर्टल में अपलोड करवाने के निर्देश दिया। संस्थाओं से ली गई जानकारी पोर्टल के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जनपदों में उपलब्ध कराई जाएगी ताकि वहां से आने वाले श्रद्धालुओं को उनके जनपदों की लोकल स्वास्थ्य टीम आरटी पीसीआर टेस्ट समय पर करा कर उसकी रिपोर्ट उपलब्ध करा सके।

बैठक में जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को हर संस्था में अनिवार्य रूप से कोविड-19 हेल्प डेस्क, थर्मल स्कैनर तथा वहां आने-जाने वाले लोगों की जानकारी एक रजिस्टर में निरंतर दर्ज कराने की व्यवस्था  सुनिश्चित कराने को कहा।

संक्रमितों की खोज 100 डोर टू डोर-:

मेले में संक्रमितों की पहचान हेतु विशेष व्यवस्था की गई है। 100 डोर टू डोर टीमों का गठन किया गया है जो संस्थाओं में जाकर सर्वे कर रही हैं। वहां रहने वाले कोविड-19 लक्षण युक्त व्यक्तियों की जानकारी लगातार निरंतर लेने का काम कर रही हैैं। यदि कहीं कोई संक्रमित व्यक्ति पाया जाता है तो वहां के कैंपों को हटा दिया जाएगा। इसके अलावा वहां रहने वाले अन्य लोगों को शहर में बने क्वॉरेंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा। कल्पवास अवधि में प्रशासन द्वारा सभी कल्पवासियों का तीन बार एंटीजन टेस्ट कराया जाएगा। 

जिलाधिकारी ने अन्य कार्यो की समीक्षा करते हुए स्नान घाटों पर पर्याप्त मात्रा में सर्कुलेटिंग एरिया बनाए रखने एवं अनावश्यक रूप से वहां सामान विक्रेताओं की भीड़ न लगने देने पर भी जोर दिया। साथ ही पीडब्ल्यूडी को हर सेक्टर में अपशिष्ट ट्रांसपोर्ट स्टेशन तक सड़क बनाने, बिजली विभाग को सभी सेक्टरों में बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराने तथा संस्थाओं एवं मार्गों में शौचालयों की समुचित व्यवस्था समय से कराने के भी निर्देश दिए।  

Advertisement
Advertisement

Trending