Connect with us

इलाहाबाद

चंपत राय के बयान पर संतों में नाराजगी, महंत नरेंद्र गिरी ने कहा अहंकारी ज्यादा दिन तक नहीं चलते

Published

on

खबर शेयर करें

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय अपने विवादित बयान के कारण सन्त समाज के निशाने पर आ गए हैं। संतों में उनके खिलाफ काफी नाराजगी देखने को मिल रही है। अयोध्या में संतो के वर्ग के विरोध के बाद अब प्रयागराज में भी अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज ने भी चंपत राय के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

महंत नरेंद्र गिरी ने राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय के बयान को उन्हें अहंकारी बताते हुए कहा कि उनके बयान से प्रतीत होता है कि चंपत राय को अहंकार हो गया है। इस तरह का बयान चंपत राय को नहीं देना चाहिए।

चंपत राय विश्व हिंदू परिषद के पुराने नेता हैं और उनका एक कद भी है। अगर किसी संत ने कोई बयान दिया था तो उसके विरोधाभास में उन्हें ऐसा बयान नहीं देना चाहिए था। महंत नरेंद्र गिरि ने कहा अहंकार भगवान का भोग होता है। अहंकारी व्यक्ति बहुत दिन तक नहीं चल पाता।

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा है चंपत राय ने हमेशा संत महात्माओं का सम्मान किया है। आगे भी संत महात्माओं का सम्मान करते रहे तो अच्छा बाकी आपकी इच्छा। उन्होंने कहा संत महात्माओं से भी अपील करेंगे कि वह ऐसे बयान न दें।

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने आवेश में आकर गलत बयान दिया था। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से साधु संत पालघर की घटना से ही नाराज। हैं। पालघर में जूना अखाड़ा के दो साधुओं और ड्राइवर की नृशंस हत्या हुई थी।

इस हत्याकांड पर महाराष्ट्र सरकार ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की थी। इसी आवेश में आकर हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने ऐसा बयान दिया। कहा लेकिन किसी भी व्यक्ति का मंदिर में दर्शन करने जाने का पूरा अधिकार है। किसी व्यक्ति को किसी सनातन धर्मी को मंदिर जाने से रोकने का अधिकार नहीं है।

आपको बता दें कि अयोध्या के संतों के एक खेमे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के अयोध्या आगमन का विरोध किया था। इस पर चंपत राय ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि “किसकी मां ने इतना दूध पिलाया है जो उद्धव ठाकरे को अयोध्या आने से रोके।” चंपत राय के इस बयान से संतों में आक्रोश है। चंपत राय के खिलाफ संतों द्वारा लगातार अलग अलग बयान आ रहे हैं।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending