Connect with us

इलाहाबाद

यूपी में शिक्षक भर्ती का है बुरा हाल, लटका है पूर्व की दो शिक्षक भर्तियों का एक चौथाई सीटों का परिणाम

Published

on

खबर शेयर करें

यूपी में शिक्षक भर्ती का हमेशा से विवादों का नाता रहा है। हाल ही में बेसिक शिक्षा परिषद की 69 हजार शिक्षक भर्ती का अधर में लटकना इसका ताजा उदाहरण है। इरी प्रकार से उच्च और उच्च माध्यमिक शिक्षकों की भर्तियां भी अधर में लटकी हुई हैं।

उच्च शिक्षा सेवा आयोग के असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती 2016 और लोक सेवा आयोग की एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती 2018 के निस्तारण को लेकर अभी तक शासन का रुख स्पष्ट नहीं हो पाया है। मालूम हो कि जून 2016 में विज्ञापन जारी कर प्रदेश के सहायता प्राप्त डिग्री कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 35 विषयों के 1150 रिक्त पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे। आवेदन जमा कराने के बाद  15 दिसंबर 2018 से 12 फरवरी 2019 तक 3 चरणों में लिखित परीक्षा कराई गई थी। प्रक्रिया को चार साल बीत चुके हैं। बावजूद इसके अभी तक समाजशास्त्र और शिक्षा शास्त्र का परिणाम घोषित नहीं हो पाया है। 

इस तरह समाजशास्त्र और शिक्षा शास्त्र के 373 असिस्टेंट प्रोफेसर पदों का परिणाम आना अभी बाकि है। मामला न्यायायिक प्रक्रिया में है।

एलटी ग्रेड शिक्षको का भी रुका है परिणाम 

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती की तरह ही लोक सेवा आयोग की एलटी ग्रेड परीक्षा के परिणाम का भी हाल है। एलटी ग्रेड शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया 15 मार्च 2018 को प्रारंभ हुई थी। इसमें राजकीय इंटर कॉलेज में 15 विषयों के लिए 10768 शिक्षकों की भर्ती होनी थी। परीक्षा 29 जुलाई 2018 को एक साथ आयोजित की गई।

 परीक्षा के बाद 13 विषयों का परिणाम तो घोषित हो गया था लेकिन हिंदी और सामाजिक विज्ञान का परिणाम आज भी लटका हुआ है। इस तरह 3287 शिक्षको की भर्ती पर अब तक रोक लगी हुई है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending