Connect with us

करियर

गर्भवती पत्नी को 1200 किमी स्कूटर से ग्वालियर परीक्षा दिलाने पहुंचा युवक, गिरवी रखने पड़े गहने

Published

on

खबर शेयर करें

एक युवक अपनी गर्भवती पत्नी को 1200 किमी दूर डीएड के परीक्षा सेंटर तक पहुंचाने के लिए स्कूटर चला कर पहुंचा। इतनी दूर परीक्षा सेंटर तक पहुंचने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं होने पर उन्होंने अपने गहने तक गिरवी रख दिये। 8वीं तक पास युवक पत्नी को शिक्षक बनाने का सपना पाले बारिश, गड्ढों की परवाह किये बिना चल पड़ा। वीडियो वायरल होने के बाद मदद के लिए प्रशासन के साथ लोग भी आगे आ रहे हैं।

झारखंड के गोड्डा जिले के गंटा टोला गांव निवासी धनन्जय कुमार (27) अपनी 6 माह की गर्भवती पत्नी सोनी हेम्बराम को डीएड (दूसरा वर्ष) की परीक्षा दिलाने मध्य प्रदेश के ग्वालियर तक स्कूटर से आया। धनन्जय ने बताया कि कोरोना के कारण ट्रेन और बसें बन्द हैं। पत्नी सोनी 6 महीने की गर्भवती है।

उन्होंने स्कूटर से ही यात्रा करने का मन बना लिया। पत्नी सोनी पहले तो इतना दूर स्कूटर से जाने से कतरा रही थी लेकिन फिर बाद में उसने भी हिम्मत करते हुए परीक्षा देने की ठान ली। धनंजय ने बताया कि टैक्सी से ग्वालियर आते तो करीब 30 हजार रुपये खर्च हो जाते। उतने पैसे इनके पास नहीं थे।

ऐसे में उन्होंने अपना जेवर गिरवी रखकर 10 हजार रुपये का इंतजाम किया और 2 दिन की यात्रा करके ग्वालियर आ गए। उन्होंने बताया कि हमारे करीब 5 हजार रुपये एक तरफ की यात्रा में खर्च हो चुके। उन्होंने बताया कि रास्ते में कई तरह की परेशानी उठानी पड़ी।

खासतौर से बिहार में क्योंकि वहां बारिश के कारण स्थिति बहुत ज्यादा खराब है। वहां पानी के अलावा कुछ भी नहीं है। रास्ते में गड्ढे में स्कूटर गया तो सोनी को काफी तकलीफ हुई लेकिन धीरे-धीरे स्कूटर चला कर मुजफ्फरपुर और लखनऊ के रास्ते बिताते हुए 30 अगस्त को वे लोग ग्वालियर आ गए।

उन्होंने गोंडा से 28 अगस्त को तड़के सफर शुरू किया था। धनंजय ने बताया कि वह खुद आठवीं तक ही पढा है और एक कुक का काम करता है लेकिन लॉकडाउन के कारण से बेरोजगार है। दिसंबर में ही उनकी शादी हुई थी। उधर झारखंड में इस दंपति का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद ग्वालियर प्रशासन तत्काल हरकत में आया।

ग्वालियर कलेक्टर ने महिला सशक्तिकरण अधिकारी शालीन शर्मा को तुरंत इस दंपत्ति के पास भेज कर मदद करने को कहा। फिलहाल रेडक्रास की ओर से दंपती को 5 हजार दिए गए हैं। इसके साथ वापस सुरक्षित उसके गांव भेजने का प्रस्ताव भी दिया है। इसके अलावा उनके भोजन और जहां वे रुके हुए हैं।

उसकी धनराशि भी प्रशासन की ओर से मुहैया कराई जाएगी क्योंकि धनंजय की पत्नी गर्भवती है। इसलिए उसका ध्यान रखा जा रहा है फिलहाल लगातार परीक्षाएं हैं लेकिन रविवार को उसकी पत्नी का स्वास्थ्य परीक्षण और अल्ट्रासाउंड कराया जाएगा।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending