Connect with us

देश

खुदकुशी से पूर्व PM मोदी को किसान ने लिखा “मेरे मरने के बाद शरीर का एक-एक अंग बेच कर चुका देना शासन का पैसा”

Published

on

खबर शेयर करें
सांकेतिक तस्वीर

कृषि कानून को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश ही नहीं विदेशों में भी किरकिरी हो रही है। किसानों का गुस्सा केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ लगातार दिख रहा है। कांग्रेस सहित देश की अन्य विपक्षी पार्टियां भी लगातार किसानों के समर्थन में केंद्र सरकार को घेरने में लगी हैं। कृषि कानून को लेकर केंद्र के खिलाफ किसानों का गुस्सा अभी शांत भी नहीं हुआ कि एक किसान की आत्महत्या ने किसानों के आंदोलन को और बल दे दिया।

मामला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में एक किसान की खुदकुशी का है। दरअसल उस किसान ने खुदकुशी करने से पूर्व जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पत्र लिखा उससे केंद्र सरकार एक बार फिर किसानों और विपक्ष के निशाने पर आ गयी है। बताया जा रहा है कि किसान के पिता रिटायर्ड बिजली कर्मचारी हैं। किसान पर बिजली विभाग का 88 हजार रुपये कर्ज था। बिजली विभाग के कर्मचारी लगातार कर्ज चुकाने का दवाब बना रहे थे।

किसान को कुर्की का आदेश भी विभाग की ओर से भेजा गया था। इससे किसान काफी सदमे में आ गया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फसल खराब होने के कारण किसान कर्ज नहीं चुका पाया था। वहीं बिजली विभाग की ओर से लगातार कर्ज चुकाने के लिए परेशान किया जा रहा था। बताया जा रहा है कि किसान ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा था। पत्र लिखने के बाद किसान ने आत्महत्या कर ली।

सुसाइड नोट में किसान ने लिखा कि “मेरे परिवार से प्रार्थना है कि मेरे मरने के उपरांत मेरा शरीर शासन के सुपुर्द कर दें। जिससे मेरे शरीर के एक-एक अंग को।बेच सके और जिससे शासन अपना कर्ज चुका सके।” अपने सुसाइड नोट में किसान ने तमाम परेशानियों का जिक्र किया था।

उसने ये भी लिखा कि “बकाया बिल के लिए बिजली विभाग के कर्मचारी लगातार परेशान कर रहे हैं। यहां तक कि मेरी बाइक तक उठा ले गए। मेरे मरने के बाद मेरा शरीर सरकार को सौप दिया जाए और मेरे शरीर का एक एक अंग बेचकर बिजली विभाग का बकाया कर्ज चुका दिया जाएगा”। एएसपी समीर गौतम के अनुसार किसान ने खुदकुशी की है। बिजली बिल नहीं देने पर बिजली विभाग के लोग कुर्की की कार्रवाई करते हुए किसान की बाइक उठा ले गये थे। हालांकि अभी तक ये स्पष्ट नहीं है। मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending