Connect with us

इलाहाबाद

Kanpur encounter: विकास दुबे के अंतिम संस्कार नहीं गए उसके पिता, बोले मैं उसके अंतिम संस्कार पर क्यों जाऊं, नहीं की कभी मेरी मदद, कहना मानता तो नहीं होता ये हाल

Published

on

खबर शेयर करें

आठ पुलिसकर्मियों को मारने वाले कुख्यात बदमाश विकास दुबे गुरुवार को मध्यप्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार सुबह उज्जैन से कानपुर लाया जा रहा था। रास्ते में संचेडी के पास जिसमें विकास बैठा था वही गाड़ी अनियंत्रित होकर पलट गई।

इसी दौरान वह गाड़ी में बैठे एक पुलिसकर्मी का रिवाल्वर छिनने कर भागने का प्रयास किया। एसटीएफ के साथ विकास की मुठभेड़ हुई। इस दौरान विकास को कई गोलियां लगी और उसकी मौत हो गई। विकास पर पुलिस ने पांच लाख रूपये का इनाम रखा था। पुलिस एनकाउंटर के बाद कानपुर के विकास दुबे का अंतिम संस्कार शुक्रवार देर शाम किया गया।

विकास के पिता ने अपने बेटे के ही अंतिम संस्कार में जाने से इंकार कर दिया। पिता से जब पूछा गया कि क्या आप बेटे के अंतिम संस्कार में नहीं जाएंगे? तो पिता का कहना था कि उसके साथ ठीक किया गया। मैं उसके अंतिम संस्कार पर भला क्यों जाऊं। हमारा कहा मानता तो आज उसकी ये दशा नहीं होती।

उन्होंने कहा विकास ने कभी हमारी कभी मदद नहीं की। शुक्रवार देर शाम हुए विकास के अंतिम संस्कार में उसकी पत्नी और छोटा बेटा शामिल हुए। इस दौरान विकास की पत्नी काफी गुस्से के थे। उसने मीडियाकर्मियों पर जमकर भड़ास निकाली। हालांकि उसका कहना था कि जो भी गलती करेगा उसे सजा जरूर मिलेगी।

Advertisement
Advertisement

Trending