Connect with us

क्राइम

भारत में सर्वाधिक दलित और मुसलमान कैदी यूपी में, मध्य प्रदेश में सर्वाधिक आदिवासी कैदी बंद, गुजरात जेलों से सर्वाधिक कैदी फरार, पढ़िए जेल पर नई रिपोर्ट

Published

on

खबर शेयर करें

National Crime Records Bureau (NCRB) द्वारा 2019 के लिए जेल के संदर्भ में एक रिपोर्ट जारी किया गया है। यह रिपोर्ट भारत में जेलों में बंद कैदियों की धर्म और जातीय आधार पर स्थिति, पुरूष, महिला, फरार कैदी सहित अन्य कैदियों पर आधारित है।

National Crime Records Bureau (NCRB) रिपोर्ट के अनुसार भारत के विभिन्न जेलों में करीब 4.53 लाख पुरूष और 19 हजार 81 महिला कैदी बंद हैं। आपको जानकार हैरानी होगी कि इनमें से 70 फीसदी ऐसे कैदी बंद हैं जो अंडर ट्रायल हैं।

मतलब अभी तक ये पता नहीं हैं कि वो दोषी हैं भी या नहीं। जबकि केवल 30 फीसदी ही दोषी कैदी ही जेल में बन्द हैं। देश मे के करीब 4.53 लाख कैदियों में सर्वाधिक उत्तर प्रदेश के एक लाख कैदी बंद हैं।

वहीं मध्य प्रदेश में 44 हजार 603 और बिहार में 39 हजार 814 कैदी हैं। 2019 में 18 लाख लोगों को कैद किया गया। इनमें से 3 लाख लोगों को अभी भी जमानत नहीं मिल सकी है।

रिपोर्ट के मुताबिक दलित, मुस्लिम और आदिवासी कैदियों की संख्या आबादी में उनके अनुपात से कहीं ज्यादा है। देश में 2011 की जनगणना के अनुसार अनुसूचित जाति की कुल आबादी 16 फीसदी है।

वहीं (NCRB) की रिपोर्ट के अनुसार जेल में बंद कुल कैदियों की सख्या का 21.7 फीसदी कैदी केवल दलित हैं। अलग अलग वर्ग के आधार पर जेलों में बंद कुल 1 लाख 44 हजार 125 दोषी कैदियों की बात करें तो दलितों की कुल संख्या 31 हजार 342, आदिवासी 19 हजार 698, ओबीसी 50 हजार 394 अन्य 42 हजार 691 है।

इस तरह 13.6 फीसदी आदिवासी कैदी हैं, जबकि 10.5 फीसदी अंडर ट्रायल हैं। देश में इनकी कुल आबादी 8.6 फीसदी है। वहीं ओबीसी के 34.9 फीसदी दोषी कैदी जेलों में बंद हैं, जबकि इनकी कुल आबादी 40 फीसदी है।

दूसरी आबादी का आंकड़ा 29.6 फीसदी है। इसके अलावा मुस्लिम वर्ग की बात करें तो 16.6 फीसदी दोषी कैदी जेलों में बंद हैं। 18.7 फीसदी कैदी अंडर ट्रायल में हैं।

देश में सर्वाधिक दलित कैदी यूपी में


आपको बता दें कि National Crime Records Bureau की रिपोर्ट के अनुसार देश में सर्वाधिक कैदी यूपी की जेलों में बंद हैं। उसके बाद मध्य प्रदेश और पंजाब में दलित कैदियों की संख्या है।

देश में सर्वाधिक मुसलमान भी यूपी की जेलों में बंद हैं। जबकि सर्वाधिक आदिवासी कैदी मध्य प्रदेश की जेलों में कैद हैं। अगर 2015 की बात की जाए तो उस दौरान भी दलित कैदियों की संख्या देश में करीब ऐसी ही थी।


धर्म के आधार पर जेलों में बंद कैदियों की स्थित


धर्म के आधार पर जेलों में बंद कैदियों की बात करें तो हिन्दू 1,06,863, मुस्लिम 23,962, सिख 6,213, ईसाई 4,605 और 2,482 कैदी बंद हैं।

19 हजार 81 महिला कैदियों में से केवल 18.3 फीसदी है महिला जेलों बंद


रिपोर्ट के अनुसार देश में कुल 19 हजार 81 महिला कैदी हैं। इनमें से 3 हजार 652 यानी केवल 18.3 फीसदी ही महिला कैदी महिलाओं के लिए बने जेलों में बंद हैं। वहीं 16 हजार 261 महिला कैदी दूसरे जेलों में बंद हैं।

आपको बता दें कि देश में कुल 31 महिला जेल हैं, जिनमें सर्वाधिक 7 महिला जेल केवल राजस्थान में है। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ ऐसे राज्य हैं गैर महिला जेलों में महिला कैदियों की क्षमता से कहीं ज्यादा है।


सर्वाधिक गुजरात जेलों में फरार हुए कैदी


देश की जेलों से फरार होने के मामले में गुजरात अव्वल है। यहां की जेलों से सर्वाधिक 175 कैदी फरार हुए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक 2019 में कुल 468 कैदी फरार हुए। जिसमें से 329 ज्यूडिशियल कस्टडी से और 139 पुलिस कस्टडी से फरार हुए।

फरार कैदियों में से 231 को फिर से गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं देश के सिक्किम, मेघालय, गोवा सहित 11 ऐसे भी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हैं, जहां से एक भी कैदी फरार नहीं हो पाए हैं। 

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending