Connect with us

कोरोना वायरस

संसद सत्र: कोरोना संक्रमण  के लक्षण दिखने पर संसद में इंट्री पर रोक, 72 घंटे पहले जांच की सलाह

Published

on

खबर शेयर करें

कोरोना की इस महामारी के बीच 14 सितम्बर से संसद सत्र शुरू होने जा रहा है। कोरोना काल मे संसद की कार्यवाही का शुरू किया जाना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

ऐसे में संसद सत्र को कोरोना से सावधानियों के साथ शुरू किया रहा रहा है। कोरोना को ध्यान में रखते हुए संसद में आने वाले सांसदों को 72 घण्टे पहले कोविड 19 की जांच कराने की सलाह दी गयी है।

ऐसा नही करने वाले सांसदों को संसद में प्रवेश से पहले कोरोना की जांच से गुजरना होगा। प्रोटोकॉल के मुताबिक अगर कोई सांसद बिना कोरोना  की जांच कराए संसद पहुंच रहा है तो उसका रैपिड एंटीजन टेस्ट किया जाएगा।

अगर रिपोर्ट पॉजीटिव आयी तो उसे संसद में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। उसे वहीं से वापस घर भेज दिया जाएगा और होम क्वारन्टीन रहने को कहा जायेगा।

हालांकि रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी अगर किसी में कोरोना के लक्षण दिखते है तो भी उसे संसद में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। ऐसे सांसदो का संसद में बनाये गए विशेष जांच केंद्र में आरटीपीसीआर टेस्ट होगा जिसकी रिपोर्ट 24 घण्टे बाद आएगी।

तब तक सांसद को घर में ही रहना होगा। सांसदों के लिए संसद भवन के स्वागत कक्ष में 11 सितंबर से आरटीपीसीआर और रैपिड एंटीजेन टेस्ट करवाने की सुविधा शुरू हो जाएगी। कोविड 19 पॉजिटिव सांसदो को 14 दिनों की होम क्वारन्टीन रहना होगा।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending