Connect with us

इलाहाबाद

Vikas dubey encounter: एनकाउंटर से पहले दहशतगर्द विकास दुबे की बात सुन एसटीएफ के भी उड़ गए थे होश, जब कही ये बात

Published

on

खबर शेयर करें


कानुपर के दहशतगर्द विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद भी लोगों के जेहन में कई सवाल अब भी उठ रहे हैं। दुनिया से उसके जाने के साथ ही कई सवाल भी दफन हो गए। कानपुर में दहशत का दूसरा नाम कहे जाने वाले दहशतगर्द विकास दुबे को जब उज्जैन से कानुपर लाया जा रहा था।

तब भी उसके चेहरे पर बिल्कुल सिकन नहीं था। उसे 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का भी बिल्कुल पछतावा नहीं था। सुत्रों की माने तो उसे एनकाउंटर का डर था। सीओ उसके खिलाफ थे। इसलिए सीओ पर वह काफी गुस्सा था। उसने ठान लिया था कि चाहे कुछ भी हो जाए गिरफ्तार नहीं होना है।

इसी सनक के चलते उसने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। यही वजह थी कि जैसे ही उसे पुलिस के आने की सूचना हुई उसने अपने साथियों के साथ मोर्चा संभाल लिया। इसमें से कई साथी शराब के नशे में धुत थे। नशे की हालत में उन्हें ये भी पता नहीं चला कि वो कितनी गोलियां पुलिस पर चला रहे हैं।

इस हमले में सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। इसका अंजाम उसे पता था। इसीलिए वह पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद भी फरीदाबाद, जयपुर सहित अन्य जगहों पर बेखौफ घूमता रहा। उसका कहना था “जो हो गया सो हो गया। अंजाम मालूम है।”

रास्ते में लाते समय उसकी ये बात सुन कर एसटीएफ वालों के भी होश उड़ गए। उसे पुलिसवालों को मारने का जरा भी अफसोस नहीं था। वह साइको किलर की तरह बात कर रहा था। उसके सिर पर तब भी जैसे खून का भूत सवार हो।

हालांकि कुछ ही देर में गाडी का एक्सीडेंट हुआ और उसने फिर से पुलिसवालों पर हमला बोला। लेकिन इसबार वह कामयाब नहीं हुआ। एसटीएफ ने उसे एनकाउंटर में मार कर ढेर कर दिया।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending