Connect with us

क्राइम

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में 28 साल बाद आया फैसला, मुरली, लाल सहित सभी बरी, 49 में 17 अभियुक्त की हो चुकी है मौत

Published

on

खबर शेयर करें

6 दिसम्बर 1992 में अयोध्या में विवादित ढांचा बाबरी मस्जिद गिरायी गयी थी। सम्बंधित आपराधिक मामले में 28 साल बाद जज सुरेंद्र कुमार यादव की विशेष अदालत में आज बुधवार को फैसला सुनाया गया।

जज ने फैसला पढ़ते हुए कहा कि यह विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था बल्कि आकस्मिक घटना थी। विशेष अदालत द्वारा मुरली मनोहर जोशी, लालकृष्ण आडवाणी, उमा भारती सहित सभी अभियुक्तों को बरी कर दिया गया।

खास बातें – जिला जज सुरेंद्र कुमार यादव 30 जून 2019 को सेवानिवृत्त हुए थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें फैसला सुनाने तक सेवा विस्तार किया था।

– सम्बंधित मामले में 49 लोग अभियुक्त हैं, इसमें से 17 लोगों की मौत हो चुकी है।

– सीबीआई और अभियुक्तों के वकीलों ने करीब 800 पन्नों की लिखित बहस दाखिल की है।

-इसके पूर्व में सीबीआई 351 गवाह और 600 से अधिक दस्तावेजी साक्ष्य पेश कर चुकी है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending