Connect with us

कोरोना वायरस

PGI में कोरोना संक्रमित मंत्री के साथ हुआ था दुर्व्यवहार, MLC ने सदन में बयां किया आंखो देखा हाल, कोरोना इलाज की व्यवस्था पर उठा सवाल

Published

on

खबर शेयर करें

समाजवादी पार्टी के विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह साजन ने संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में इलाज के दौरान कोरोना संक्रमित कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के साथ वहां के डाॅक्टरों और स्टाफ के द्वारा दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है।

शनिवार को विधान परिषद की कार्यवाही के दौरान सपा एमएलसी सुनील ने जब मंत्री चौहान के साथ एसजीपीजीआई में हुए दुर्व्यवहार को सदन में रखा तो लोग भी सुन कर दंग रह गए।

उन्होंने कहा कि “उत्तर प्रदेश में केवल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का सम्मान होगा। अगर यहां कि किसी नेता को कोरोना हो जाएगा, तो पीजीआई में किस तरह से आपके साथ दुर्व्यवहार होगा। यह कल्पना भी नहीं किया जा सकता।”


उन्होंने मंत्री के साथ हुए दुर्व्यवहार को सदन में बयां करते हुए कहा कि “एक राउंड पर आए डाॅक्टर और स्टाफ दूर गेट से ही पूछते हैं कि चेतन कौन है? चूंकि मंत्री बहुत सरल स्वभाव के थे। इसलिए उन्होंने हाथ खड़ा किया।

एक स्टाफ ने चौहान जी से पूछा कि चेतन आपको कब हुआ कोरोना। इस पर चौहान ने पूरी बात बताई। तभी एक दूसरे स्टाफ ने पूछा कि चेतन क्या काम करते हो तुम? वो कुर्ता पायजामा में थे मैं पैंट शर्ट पहना था।

इस पर मंत्री जी ने बताया कि वह योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं। MLC सुनील ने कहा उन्हें मेडिकल स्टाफ के इस वर्ताव पर बहुत गुस्सा आ रहा था लेकिन जब चौहान ने खुद को कैबिनेट मंत्री बता दिया तो मुझे लगा स्टाफ के लोग अब उनसे सम्मान के साथ बात करेंगे लेकिन यह सुनने के बाद अभी पीजीआई के स्टाफ ने कहा कि चेतन तुम्हारे घर में और कौन-कौन संक्रमित हैं।”

MLC सुनील ने सदन में कहा ‘जब मैं अपना गुस्सा नहीं रोक पाया तो डाॅक्टर से कहा यह वह हैं जो देश के लिए क्रिकेट खेलते थे, तो डाॅक्टर ने कहा कि अच्छा यह वह चेतन हैं। यह कहते हुए डाॅक्टर और स्टाफ वहां से चल गए।”

इस दौरान उन्होंने सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि “कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान कोरोना से नहीं बल्कि सरकार की अव्यवस्था से हम सबको छोड़ कर चले गए।” सपा MLC द्वारा सदन में कोरोना मरीजों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार और कोरोना संक्रमितों की जांच व्यवस्था पर भी कई सवाल खड़े किए। MLC द्वारा PGI का हाल बयां करने के बाद से प्रदेश में कोरोना चिकित्सा को लेकर बड़े सवाल उठने लगे हैं।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending