Connect with us

उत्तरप्रदेश

किसान आंदोलन: “ये मोदी इंडिया कंपनी है, देश में काले अंग्रेजों का कानून”: प्रमोद तिवारी

Published

on

खबर शेयर करें

केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ देश के अलग-अलग राज्यों के जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रयागराज में भी किसानों के समर्थन में बड़ी संख्या में कांग्र्रेसी सडक पर उतरे लेकिन पुलिस ने उन्हें देखते ही गिरफ्तार कर लिया।

हालांकि शहर के काफी कांग्रेसियों को रात में ही गिरफ्तार कर लिया गया। किसानों के खिलाफ प्रदेश सरकार के निर्देश पर की गई इस गिरफ्तारी की कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य प्रमोद तिवारी ने निंदा की है। 

कांग्रेेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने किसान संगठनों की ओर से घोषित भारत बंद को सफल बनाने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई दी। उन्होंने कृषि कानून को काला कानून बताते हुए भारत बंद का समर्थन किया है।

देश में मोदी सरकार की तुलना अंग्रेजों के ईस्ट इंडिया कंपनी से करते हुए कहा कि  जिस तरह से गोरे अंग्रेज देश की आजादी के पूर्व तमाम किसान और नौजवान विरोधी कानून लाये थे। वैसे ही आज देश के काले अंग्रेज और हुक्मरान किसान, नौजवान और देश विरोधी 3 कृषि कानून लाये हैं इसे तत्काल रद्द किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि तीनों काले नये कृषि कानून को वापस लिया जाना चाहिए। साथ ही विपक्ष और अन्य संगठनों के साथ मिलकर देशहित और किसानों के लिए नया कृषि कानून बनाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि एमएसपी को नये कृषि कानून में संवैधानिक दर्जा दिया जाना चाहिए। जो भी न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम कीमत पर खरीदारी करे उसके विरूद्व आपराधिक मुकदमा कायम होना चाहिए।

साथ ही कहा कि कृषि में लागत कम करने के लिए कांग्रेस सरकार में लिएय गए पूर्व के निर्णय को बहाल किया जाए। डीजल और पेट्रोल की कीमत एक तिहाई रखा जाए। उन्होेंने किसानों के आंदोलन की तुलना देश की आजादी से की है। आपको बता दें कि प्रयागराज में सुबह की पुलिस प्रशासन ने उनके आवास को घेर लिया। साथ उन्हें घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending