Connect with us

उत्तरप्रदेश

UP Government: ई स्टॉक मॉनिटरिंग साफ्टवेयर विकसित करने की तैयारी, जानिए सॉफ्टवेयर की खास बात

Published

on

खबर शेयर करें

लखनऊ। प्रदेश की अपर मुख्य सचिव व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास एस. राधा चौहान ने राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में साज-सज्जा/उपकरण, मशीन एवं संयंत्र क्रय किये जाने हेतु ईइन्वेन्टरी मैनेजमेंट के दिशा-निर्देश संबंध में शासनादेश जारी किया है। जारी शासनादेश में उन्होंने कहा है कि व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के अन्तर्गत राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में साज सज्जा/उपकरण, मशीने एवं संयंत्र आदि की क्रय प्रक्रिया में विभिन्न शासनादेशों द्वारा निर्गत दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करने के साथ-साथ अन्य कार्यवाहियां भी सुनिश्चित की जाय।

उन्होंने बताया कि ई स्टॉक मॉनिटरिंग साफ्टवेयर विकसित किया जाये, जिस पर इन्वेंटरी प्रबंधन से संबंधित गतिविधियों के प्रबंधन हेतु वेब आधारित एक अनुप्रयोग (Web based Application) विकसित किया जाए, जो निदेशालय की वेबसाइट- upvesd.gov.in से लिंक कर संचालित किया जाये।

उन्होंने बताया कि ई स्टॉक मॉनिटरिंग साफ्टवेयर में मांग पत्रों को तैयार करना तथा सक्षम प्राधिकारी द्वारा उसकी स्वीकृति, सक्षम प्राधिकारी द्वारा स्वीकृत क्रय आदेश का इंदराज (इंट्री), क्रय आदेश में संशोधन व स्वीकृति, सामग्री निरीक्षण तथा वस्तुओं की प्राप्ति, क्रय की गई वस्तुओं की वापसी, निर्गम वाउचर तथा जारी की गई वस्तुओं की वापसी, सामग्री का अन्य भंडारों/स्थानों पर आना/जाना, भंडार का भौतिक सत्यापन तथा समायोजन वाउचर, वस्तुओं की मरम्मत हेतु कार्यादेश, औसत भारित कार्यप्रणाली के आधार पर भंडार का सत्यापन, क्रय तथा इनवेटरी की विभिन्न रिपोर्ट, स्थिर-सम्पत्तियों का जोड़ा जाना, मूल्यहास की गणना, स्थिर-संपत्ति पंजी, स्थिर-सम्पत्तियों का आवंटन/पुनरावंटन, संपत्ति स्थानांतरण, वार्षिक अनुरक्षण अनुबंध तथा बीमा विवरण, भंडार प्रबंधन, एकल, विविध, समवर्ती भंडार का संचालन, वार्षिक भंडार गणना की प्रक्रिया, वस्तु निर्गमन-वापसी की प्रक्रिया, वास्तविक समय वस्तु निर्गमन अनुरोध, वास्तविक समय वस्तु निर्गमन अनुरोध की स्वीकृति, भंडार का स्वतः अद्यतन किया जाना, अतिरिक्त उपलब्ध भंडार का एक कार्यालय से दूसरे कार्यालय में स्थानांतरण, विभिन्न स्तरों पर लक्ष्य के सापेक्ष अतिरिक्त वस्तुओं की उपलब्धता, विभिन्न स्तरों पर लक्ष्य के सापेक्ष कम वस्तुओं की उपलब्धता, समवर्ती विविध भंडार अनुरोधों को सम्हालना, विभाग/व्यक्ति को निर्गत सामानों की निगरानी, वास्तविक समय पर वस्तु के अनुरोध की निगरानी, अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा इनवेंटरी के प्रयोग की पद्धति, इन्वेंटरी में उपयोग की गई प्रमुख वस्तुएँ का विवरण रहेगा।

चौहान ने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास के अन्तर्गत राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण जाने वाले साज-सज्जा/उपकरण एवं संयंत्र को क्रय करके प्राप्त सामग्री को बार कोडेड जियो टैगिंग फोटोग्राफ्स के साथ डिजिटल स्टॉक रजिस्टर पर दर्ज कराना सुनिश्चित किया जाये। क्रय की गयी सामग्री की गुणवत्ता सुनिश्चित करने/सत्यापन हेतु संबंधित संयुक्त निदेशक, जिलाधिकारी से समन्वय स्थापित कर एक त्रिसदस्यीय समिति का गठन कराकर क्रय के एक माह के अन्दर धर्ड पार्टी इन्सपेक्शन/सत्यापन रिपोर्ट प्रस्तुत करें एवं अनुकूल सत्यापन रिपोर्ट प्राप्त होने उपरान्त ही एक माह के भीतर भुगतान सुनिश्चित कराया जाये। इसके अलावा समिति द्वारा कोई विपरीत रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है तो उसके एक माह के भीतर आपत्ति का निस्तारण कराकर ही भुगतान सुनिश्चित किया जाये।

Advertisement
Advertisement

Trending