Connect with us

दुनिया

World Toilet Day 2020: आखिर क्यों मनाया जाता है विश्व शौचालय दिवस, जानिए इसका इतिहास

Published

on

खबर शेयर करें

विश्व शौचालय दिवस (World Toilet Day) 19 नवंबर को मनाया जाता है। हर साल इस दिवस की थीम होती है। विश्व शौचालय दिवस 2020 की थीम ‘ससटेनेबल सैनिटेशन एंड क्लाइमेट चेंज’ है।

विश्व शौचालय दिवस (World Toilet Day) की शुरूआत वर्ष 2001 में विश्व शौचालय संगठन द्वारा की गई थी। सन् 2013 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा इसे अधिकारिक तौर पर विश्व शौचालय दिवस घोषित कर दिया गया। यह दिन लोगों को विश्व स्तर पर स्वच्छता के संकट से निपटने के लिए प्रेरित करता है। खुले में शौच बीमारियों को न्योता देना है। इसका सबसे अधिक दुष्प्रभाव महिलाओं एवं बच्चों के स्वास्थ्य पर पड़ता है।

विश्व शौचालय दिवस 2020 थीम

‘सस्टेनेबल सैनिटेशन एंड क्लाइमेट चेंज’ (Sustainable Sanitation and Climate Change ) इस बार थीम रखी गई है और साल 2019 में “लीविंग नो वन बिहाइंड” थीम तय की गई थी। शौचालय निमार्ण को लेकर भारत में काफी तेजी आई है। सरकार ने प्रधानमंत्री शौचालय योजना शुरू (PM Toilet sceme) करके प्रत्येक गांव में हर घर में शौचालय (Toilet ) निर्माण कराने का प्रयास किया। हालांकि प्रशासनिक स्तर पर इस काम में कुछ जगह लापरवाही भी देखी गई। जिसके चलते अभी भी ग्रामीण घरा में शौचालय नहीं बनवा सके। उन्हें अभी भी खुले में जाने को मजबूर होना पड़ रहा है।

‘विश्व शौचालय दिवस’ World Toilet Day मनाने का उद्देश्य

आज भी विश्व में कई करोड़ लोग शौचालय (Toilet ) का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं या उनके पास इसकी सुविधा नहीं है। ऐसे में इस दिवस को मनाने के पीछे यही उद्देश्य और संदेश है कि विश्व के तमाम लोगों को 2030 तक शौचालय की सुविधा मुहैया करा दी जाए। गौरतलब है कि सयुक्त राष्ट्र के 6 सतत विकास लक्ष्यों में से एक यह भी है।

साल 2001 में हुई थी शुरूआत

हम आपको बता दें कि ‘विश्व शौचालय दिवस’ का इतिहास बहुत ज्यादा पुराना नहीं है साल 2001 में इसकी शुरूआत विश्व शौचालय संगठन (world Toilet organization )द्वारा की गई। साल 2013 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी ‘वर्ल्ड टॉयलेट डे’ मनाने के प्रस्ताव को पास कर दिया। विश्व शौचालय संगठन एक गैर लाभकारी संस्था है और यह दुनिया भर में स्वच्छता और शौचालय (Toilet ) की स्थिति में सुधार लाने के लिए प्रयासरत है।

भारत में प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत मिशन है योजना

भारत सरकार देश के गरीब परिवारों के लिए फ्री शौचालय योजना चला रही है। जिसके अंतर्गत गरीब परिवार के ऐसे व्यक्ति जिनकी आर्थिक स्थिति काफी कमजोर है। और वह शौचालय निर्माण नहीं करवा पा रहे हैं। इसी असुविधा को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले सभी नागरिको के लिए शौचालय बनवाने की सुविधा उपलब्ध कराई गयी है। प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत ग्रामीण व शहरी इलाकों में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए शौचालयों का निशुल्क निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए, सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालयों के निर्माण के लिए 12,000 रुपये प्रदान कर रही है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Advertisement

Trending